Thursday, 4 June 2020

Teri Awargi Ko Hum Teri Sadgi Samajh Baithe Poetry Lyrics In Hindi तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे

Teri Awargi Ko Hum Teri Sadgi Samajh Baithe Poetry Lyrics In Hindi
तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे

तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे
फुर्सत में बिताए कुछ लम्हों को हम ज़िन्दगी समझ बैठे

तेरी तो आदत थी शायद हर किसी पर मर मिटने की
पर हम खुद  को उन सब में खास समझ बैठे 
क्योंकि तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे...

मानते है खुद कभी इजहार नही किया तुमने 
पर तेरे इनकार  ना करने को भी हम इकरार समझ बैठे 
तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे...

तूने तो सुन के भी अनसुने कर दिए मेरे अलफ़ाज़ 
और हम थे की तेरे अनसुने जज्बात भी समझ बेठे
तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे...

लो बना ही डाला मेने खुद को एक सख्त पत्थर की तरह 
क्योंकि तुम मुझे रेत का अम्बार जो समझ बेठे

तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे
फुर्सत में बिताए कुछ लम्हों को हम ज़िन्दगी समझ बैठे...|

Teri Awargi Ko Hum Teri Sadgi Samajh Baithe Poetry Lyrics In Hindi

तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे

Teri Aawargi Ko Hum Teri  Sadgi Samajh Baithe,,
Fursat Me Bitaae Kuch Lamho Ko Hum Zindagi Samajh Baithe...

Teri To Aadat Thi Shayad Hr Kisi Par Mar Mitne Ki,
Pr Hum Khud Ko Un Sb Me Khas Samajh Bithe,,
Kyoki Teri Aawargi Ko Hum Teri  Sadgi Samajh Baithe...

Mante Hai Khud Kabhi Ijhaar Nhi Kia Tumne,
Par Tere Inkaar Naa Karne Ko Bhi Hum Ikrar Samajh Baithe ,,
Teri Aawargi Ko Hum Teri  Sadgi Samajh Baithe...

Tune To Sun Ke Bhi Ansune Kar Die Mere Alfaaz,
Or Hum The Ki Tere Ansune Jajbaat Bhi Samajh Baithe,,
Teri Aawargi Ko Hum Teri  Sadgi Samajh Baithe

Lo Bna Hi Dala Mene Khud Ko Ek Sakht Pathar Ki Tarah,,
Kyoki Tum Mujhe Ret Ka Ambaar Jo Samajh Baithe...

Teri Aawargi Ko Hum Teri  Sadgi Samajh Baithe,,
Fursat Me Bitaae Kuch Lamho Ko Hum Zindagi Samajh Baithe...

Teri Awargi Ko Hum Teri Sadgi Samajh Baithe Poetry Lyrics In Hindi

तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे

Related Posts

Teri Awargi Ko Hum Teri Sadgi Samajh Baithe Poetry Lyrics In Hindi तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे
4/ 5
Oleh