Thursday, 4 June 2020

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon Poetry Lyrics In Hindi

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat Lyrics In Hindi
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत

 तुम्हें मुझे छोड़े हुए 1 साल 3 महीने और 16 दिन हो चुके हैं।
इस समय हम और लड़कियों की बाहों में मदहोश हो चुके हैं।
यह गलत नहीं कि तुम्हारी याद आती नहीं,
हां लेकिन सुबह शाम आती नहीं है।
अब मेरे पास कलम है कागज है तुम्हारी याद है शायरी है।
दिल में बुझ चुकी इस आग को अब फिर से जलाना मत।
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत।

हाँ वक्त जरूर याद आता है जब हम साथ थे,
खुशियों से भरे हम दोनों के हाथ थे।
वो मीठे मीठे मेरे वो खट्टे खट्टे तेरे कितने प्यारे जज्बात थे।
पर हवाओं मैं अब वो बात नहीं,
मेरे हाथों में जो तेरा हाथ नहीं।
पर इसमे मेरी कमजोरी समझ कर मुझसे बात बढ़ाना मत।
जो कमाल कभी दिखाया फिर से दिखाना मत।
मेरे दिल को 200 मिनट प्रति वीट की स्पीड से धड़काना मत।
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत।

कि अब तू किसी और से दिल लगा बैठी है।
किसी और के लिए वही अरमान सजाए बैठी है।
मैं जानता नहीं कि वो तुझ पर अपनी जान वारता है या नहीं,
तुझे जीता देख अपनी जिंदगी से हारता है या नहीं।
अब रकीब से अपने दिल की बातें छुपाना मत।
जैसे रुलाया था मुझे उन सर्द रातों में किसी और को रुलाना मत।
जैसे मुझे तड़पाया था तुमने किसी और को तड़पाना मत।
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत।

मुझसे बिछड़ने के बाद तूने कई लोगों से वादे किए हैं,
उनके साथ जीने मरने के इरादे किए हैं।
पर शायद हम दोनों जैसा इश्क तुझे इक बार ना हो,
मेरे जैसा अब कोई तेरा दिलदार न हो।
तेरे बेवफा हो जाने पर कोई जान देने को तैयार न हो।
इसलिए कहता हूं उसे अपने हाथों से खाना खिलाना मत।
उसे अपने हाथों से बनी चाय पिलाना मत।
उसे बाहों में लेकर अपनी मुलायम उंगलियों से उसके बालों को सहलाना मत।
जिस तरह मुझे बर्बाद किया था किसी और को बर्बाद कर जाना मत।
क्योंकि अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत।

पर फिर मिल जाओ कभी किसी कोने में,
तो सोचकर हमारा इश्क मत लग जाना रोने में।
शायद गलती तुम्हारी थी हमारे जुदा होने में।
अपने आप को सही साबित करने के लिए गलतियों को समझाना मत।
मेरी आंखों में अब आंखें डालोगी तो इन आंखों को चुराना मत।
जैसे गले लगाया करती थी मुझे पहले फिर से गले लगाना मत।
अब इस सख्त लौंडे को फिर से पिघलाना मत।
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत।

जैसे तुम्हें मिल चुका कोई और है अब,
मैं भी किसी और पर अब कुर्बान हूं।
तुम जैसी ना जाने कितनी लड़कियां मुझ पर मेहरबान है।
याद है वो मैसेज जो ना खोलती थी तुम मेरे,
अब सुन लो मेरे पास लड़कियों के Unseen मैसेज की दुकान है।
मुझे देख कर किसी और के साथ अब पछताना मत।
सदा देना चीखना-चिल्लाना मत।
अब मुझे चूमते देख उसे अपनी आंखों से आंसू बहाना मत।
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत।

याद कर वो वक्त जब तेरे लिए शायरी लिखा करता था,
तुझे हर जगह मशहूर किया करता था।
तुझ पर प्यार की सारी पूंजी लुटा दी थी,
जिसके बदले में तू ने मुझे बेवफाई की सजा दी थी।
इसीलिए राय देता हूं सबको :
अपनी जान किसी पर लुटाना मत।
एक साधारण सी लड़की को खुदा बनाना मत।
उसे पूछना मत उसके सामने सर झुकाना मत।
किसी से अपना इश्क़ स्वीकार कराने के लिए उसके सामने गिड़गिड़ाना मत।
प्यार, प्रेम, इश्क, मोहब्बत के नाम पर अपना कटवाना मत।
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत।

अब तुझे खोने के बाद मैंने बहुत कुछ पा लिया है,
मानो जमाने ने तो मुझे गले से लगा लिया है।
तेरी तोहीन पर लिखी शायरी अब लोगों को अच्छी लग रही है,
तेरी बेवफाई पर लिखे किस्से अब लोगों को सच्चे लग रहे हैं।
कोई पूछे हमारे किस्से तो उन्हें झुठलाना मत।
उन्हें अपने WhatsApp पर किए झूठे वादे पढ़वाना मत।
क्योंकि अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत।

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat Lyrics In Hindi
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat 

Ki tumne muje chhode hue,
Kuch 1 saal, 3 mahine aur 16 din ho chuke hai,
Is samay me hum, aur kisi ki bahoon me, madhahosh ho chuke hai..
Par iska matlab ye nahi hai,
Ki tumhari yaad aati nahi hai,
Haan lekin ab subha-shaam aati nahi hai..
Ab mere pass kalam hai, kagaz hai,
Aur tumhari yaad me likhi wo shayari hai,
Par ab dil me bujh chuki us aag ko wapas jalana mat,

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat 

Haan, wo waqt zaroor yaad aata hai,
Jab hum sath the, khushiyon se bhare,
Wo hatho me hath the,
Mithe-mithe se wo mere, khatte-khatte se tere,
Kya pyare wo jasbaat the,
Par ab hawaao me wo baat nahi hai,
Mere hathoon me ab jo tera hath nahi hai,
Par isme meri kamzori samaj ke, baat badhana mat,
Jo kamaal kabhi dikhaya tha, wo fir se dikhana mat,
Mere dil ko 200p/m ki speed se, fir se dhadakana mat,

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat 

Ki ab tu kisi aur se dil laga baitha hai,
Kisi aur ke liye wahi armaan sajaye baitha hai,
Me janti nahi wo tujh par apni jaan warti hai ya nahi,
Tuje jeet ta hua dekh, apni zindagi se haar ti hai ya nahi,
Ab rakeeb se apni dil ki baatein chhupana mat,
Jese rulaya tha muje, un sard raaton main,
Kisi aur ko rulana mat,
Jese muje kabhi tadapayaa tha tumne,
Kisi aur ko tadapana mat,

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat 

Mujse bichhadane ke baad, tume bhi kayi logo se waade kiye honge,
Unke sath jeene marne ke iraade kiye honge,
Par ab hum dono jesa ishq, aur ek baar na ho,
Mere jesa ab koi, tera dildaar na ho,
Tere bewafaa ho jane par, koi jaan dene ko taiyaar na ho,
Is liye kehti hoon ke,
Ab use apne hatho se, khana khilana mat,
Use apne hathon se bani chai pilana mat,
Usko bahoon me lekar, apni mulayam ungaliyo se,
Uske baalon ko sehlana mat,
Jis kadar barbaad kiya tha muj kabhi,
Kisi aur ko barbaad kar jana mat..

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat 

Par fir se mil jao kabhi kisi kone main,
To soch kar humara ishq, mat lag jana rone main,
Kyuki galti shayad tumhari thi, humare juda hone main,
Apne aap ko sahi saabit karne ke liye,
Galtiyoon ko samjana mat,
Meri aankhon me agar ab aankh daaloge, To un aankhon ko churana mat,
Jese gale lagaya tha muje pehle, Fir se gale lagana mat,
Is sakht ban chuki sherni ko, fir se piglana mat,

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat 

Jese tumhe mil chuka koi aur hai ab,
Me bhi kisi aur par kurbaan hoon,
Tum jese na jane kitne ladke, ab mujh par meharbaan hai,
Yaad hai wo messages mere, jo na kholte the tum,
To ab sun lo, ab mere pass bhi ladko ke unseen messages ki dukaan hai,
Muje dekh kar ab kisi aurke sath pachhtana mat,
Sukun se dekhna, chikhna-chillana mat,
Ab muje use chumta hua dekh, apni ankho se aansu bahana mat,

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat 

Yaad kar wo waqt, jab tere liye me shayari likha karti thi,
Tujhe har jagha mashhoor kiya karti thi,
Tujh par apni sari punji luta chuki thi,
Uske badle tune muje bewafaiyo ki saja di thi,
Is liye raay deti hoon sab ko ab ki,
Apni jaan kisi aur pe lutana mat,
Ek sadharan se ladke ko, kabhi khuda banana mat,
Use pujna mat, uske samne sir jhukana mat,
Apne ishq ka swikaar karwane me, uske samne gidgidana mat,

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat 

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon,
Ab meri zindagi me wapas aana mat Lyrics In Hindi
अब मैं तुम्हें भूल चुका हूं मेरी जिंदगी में वापस आना मत

Related Posts

Ab Me Tumhe Bhool Chuka Hoon Poetry Lyrics In Hindi
4/ 5
Oleh